पुरे गाँव में सिर्फ एक ही मुस्लिम परिवार, गाँव वालों ने उन्हें ही चुना मुखिया, देखें

loading...

जम्मू कश्मीर भारत का एक बहुत ही संवेदनशील इलाका है जहां पर इस वक्त माहौल काफी खराब बना हुआ है। इसी बीच जम्मू-कश्मीर के बंदरगाह से एक ऐसी खबर सामने आ रही है जो शाम फायदे सद्भाव और भाईचारे कहा शानदार उदाहरण पेश कर रही है। दरअसल भदरवाह में हाल ही में पंचायत के चुनावों में हिंदू बहुत गांव वाले लोगों ने एक मुस्लिम को निर्विरोध पंच चुन लिया है।

जम्मू-कश्मीर में लिया गया भाईचारे को बढ़ावा देने का फैसला

आपको बता दें कि मवेशी पालने वाले 54 साल के चौधरी मोहम्मद हुसैन को भदरवाह की हंगा पंचायत के भेलान-खारोथी गांव का पंचायत बनाया गया है। आपको बता दें कि इस गांव में 400 से ज्यादा निवासी हिंदू रहते हैं। जिनमें मोहम्मद हुसैन इकलौते मुस्लिम परिवार से आते हैं वह अपनी पत्नी और पांचवी के साथ इस गांव में वर्षों से रह रहे हैं उनकी चार बेटियां भी है जिनकी शादी हो चुकी है।
हिन्दू बहुल गाँव में मुस्लिम बना पंच

इस मामले में स्थानीय निवासी दुनी चंद का कहना है कि आज जहां देशभर में धर्म विशेष का ध्रुवीकरण हो रहा है वहीं यहां पर भाईचारे की एक अलग ही मिसाल पेश की गई है।

loading...

उन्होंने कहा है कि मोहम्मद हुसैन अपने समुदाय की सर्वसम्मति से पंच बनाए गए हैं और उन्होंने यह एक अलग उदाहरण पेश की है और भाईचारे को बढ़ावा देते हुए देश में ताकत फैलाई है।

गाँव वालों ने दिया भाईचारे का सन्देश


उनका कहना है कि इसमें कोई शक की बात नहीं कि मोहम्मद हुसैन गांव के मुद्दे को संभालने में सक्षम नहीं हैं लेकिन हमने उन्हें समाज में एक उदाहरण स्थापित करने और उन्हें अलग महसूस होने देने के लिए चुना है इसी गांव के सभी वर्ग के लोग इस फैसले से बहुत ही खुश हैं।

गाँव का हर शख्स है फैसले से खुश


इस मामले में गांव के एक युवा का कहना है कि मैं इस तरह के गांव में पैदा होने पर बहुत ही भाग्यशाली महसूस कर रहा हूं जहां बुजुर्गों ने बहुत ही बड़ा और अहम् फैसला लिया है।

उन्होंने इस देश को बचाने के लिए यह फैसला लिया है और मुझे उम्मीद है कि पूरा समाज बुजुर्गों के इस फैसले से सबक लेगा और उन पर गर्व करेगा।

loading...