देक्खने को मिली सां!प्रदायिक सौहार्द की मिसाल, हा!दसे के बाद म!न्दिर श्र!द्धालुओं के लिये मु!सलमानों ने खोल दिए म!स्जिद के दरवाज़े

loading...

केरल के सबरीमाला मंदिर में दो महिलाओं के प्रवेश के बाद हाल ही में भारत के विवाद में देखते ही देखते हिं!सा का रूप धारण कर लिया। इस हिं!सा में कई लोगों के घा!यल होने की खबर सामने आई है। लेकिन इस हिं!सा के बीच सां!प्रदायिक सौ!हार्द की एक अच्छी खबर भी देखने को मिली। गौरतलब है कि स!बरीमाला मं!दिर मामले में हिं!दूवादी सं!गठनों और भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतर कर उ!ग्र प्रदर्शन किया है। जिसके चलते राज्य में क!र्फ्यू जैसे माहौल बन चुके थे। अब खबर सामने आई है कि स!बरीमाला श्र!द्धालु से भरा एक वाहन हैदराबाद से चला था जो कि जो कुझलमंड के पास हा!दसे का शिकार हो गया।

इस वाहन में 15 लोग सवार थे जिनको गं!भीर चोटे भी आई हैं। बताया जा रहा है कि इस हा!दसे के वक्त वहां पर पास ही की मस्जिद में लोग नमाज पढ़ने के लिए आए हुए थे। जब उन्होंने इस हा!दसे को होते देखा तो वह फौरन उसे तरफ दौ!ड़ पड़े। आपको बता दें कि श्र!द्धालुओं से भरा यह वाहन धान के खेत में जाकर गिर गया था जिसके चलते मस्जिद मैं नमाज करने आए। लोगों ने इन श्र!द्धालुओं की मदद की और उन्हें मस्जिद में ले जाकर उनकी देखभाल की और खातिरदारी की। इस हादसे के चश्मदीद हमीद फैजी ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया है कि जिस वाहन से यह श्र!द्धालु सफर कर रहे थे। वह पूरी तरह से न!ष्ट हो चुका है।

हम उन ती!र्थयात्रियों को मस्जिद ले आए जिन्हें छोटी चोटें आई थीं और उन्हें नाश्ता और जलपान कराया। स!बरीमाला मं!दिर में 2 महिलाओं ने किया था प्रवेश आपको बता दें कि भगवान अयप्पा के मंदिर में 44 वर्षीय कनकदुर्गा और 42 वर्षीय बिंदू ने प्रवेश किया था।

इसके वि!रोध में सबरीमाला कर्म समिति ने भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से सुबह से लेकर शाम तक के बंद का आह्मवान किया था। उस दिन राज्य के विभिन्न हि!स्सों से सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की सूचनाएं आई थीं।

loading...