Kathua victims lawyer gets threats
Kathua victims lawyer gets threats

Kathua victims lawyer gets threats

देश को झकझोर देने वाले 8 साल की बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले में आज से कोर्ट में सुनवाई होगी। इस बीच पीड़िता की वकील दीपिका सिंह राजावत ने अपने साथ रेप या हत्या कराए जाने की आशंका जताई है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर से बाहर केस ट्रांसफर करने की मांग की है। इस मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल करने की उम्मीद है।

Download Our Android App Online Hindi News

खबर के मुताबिक, जम्मू कश्मीर के बाहर केस ट्रांसफर करने की मांग को लेकर पीड़ित परिवार सुप्रीम कोर्ट में अपील करेगा। इस बीच आरोपियों को मिल रहे समर्थन से पीड़ित परिवार खौफजदा है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने कहा है कि जांच में दोषी साबित होने पर वकीलों के लाइसेंस रद्द होंगे। बार काउंसिल ने जांच के लिए 5 सदस्यीय टीम बनाई है। साथ ही वकीलों से अपनी हड़ताल खत्म करने को कहा गया है।

गौरतलब है कि, यह सुनवाई आठ आरोपियों के खिलाफ की जाएगी, जिन पर एक बच्ची को जनवरी महीने में एक सप्ताह तक एक मंदिर में बंधक बनाकर रखने और उसका गैंगरेप कर हत्या करने का आरोप है।आरोपियों में एक नाबालिग भी शामिल है जिसके खिलाफ एक अलग चार्जशीट दाखिल की गई है।

Kathua victims lawyer gets threats

अधिकारियों ने बताया है कि कठुआ के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एक चार्जशीट सुनवाई के लिए सत्र अदालत भेजेंगे, जिसमें सात आरोपी नामजद हैं। जबकि नाबालिग आरोपी के खिलाफ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सुनवाई करेंगे। जम्मू कश्मीर सरकार ने इस संवेदनशील मामले में सुनवाई के लिए दो विशेष वकीलों की नियुक्ति की है। ये दोनों ही सिख हैं।

वकील कर रहे हैं विरोध

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक, जम्मू के वकील लगातार इस घटना पर आरोपियों के पक्ष में समर्थन में खड़े नजर आ रहे हैं। उन पर न्यायिक प्रकिया में रुकावट डालने के भी आरोप लग रहे हैं। जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट और बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने नाराजगी जताई है। बार काउंसिल स्थानीय वकीलों को सोमवार तक हड़ताल खत्म करने की चेतावनी दे चुका है। वहीं इस पूरी घटना में दोषी पाए जाने वाले वकीलों के लाइसेंस रद्द करने की भी चेतावनी दी गई है। वहीं, इस घटना में आरोपी पुलिसकर्मियों को भी बर्खास्त कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here