EC seizes 9746 fake voter ID cards
EC seizes 9746 fake voter ID cards

EC seizes 9746 fake voter ID cards

लोकतंत्र को इसलिए बेहतर माना जाता है क्योंकि इसमें अपने नेता को चुनने का अधिकार जनता के पास होता है। जनता जिसे चाहती है उसे मतदान के द्वारा चुन लेती है। लेकिन अब पारदर्शी व स्वतंत्र चुनाव प्रक्रिया खतरे में नजर आ रही है। और जब चुनाव प्रक्रिया ही खतरे में है तो लोकतंत्र का कमजोर होना लाज़मी है।

Download Our Android App Online Hindi News

12 मई को कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होने हैं। लेकिन उससे पहले ही राजधानी बेंगलुरु के एक अपार्टमेंट से हजारों ‘फर्जी’ वोट आईडी कार्ड मिले हैं। घटना 8 मई यानी मंगलवार शाम की है। बेंगलुरु के जलाहाल्ली इलाके में एक घर से बेंगलुरु पुलिस और चुनाव आयोग ने 9746 वोटर आईडी कार्ड बरामद किए।

इस घटना ने चुनाव आयोग के अधिकारियों को हिला दिया। कर्नाटक में मुख्य निर्वाचन अधिकारी संजीव कुमार ने मंगलवार रात साढ़े ग्यारह बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। उन्होंने बताया कि 9746 वोटर आईडी कार्ड बरामद किए गए हैं। इन्हें छोटे बंडलों में बांधकर और लपेटकर रखा गया था। हर बंडल पर फोन नंबर और नाम लिखा गया था।

हालांकि चुनाव आयोग ने अभी ये साफ नहीं किया है कि वोटर आईडी फर्जी हैं या असली। संजीव कुमार ने कहा है कि मामले में एफआईआर दर्ज हो गई है और जांच की जा रही है। शुरुआती जांच में ये सभी कार्ड फर्जी नहीं मालूम होते लेकिन ये मुद्दा छोटा नहीं है और सिर्फ अंदाजे से इसमें कुछ नहीं कहा जा सकता है।

उधर इस घटना ने राजनीतिक पार्टियों में भी चुलह पैदा कर दी है। कांग्रेस और बीजेपी दोनों एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। मंगलवार की रात चुनाव आयोगी के प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पर कई आरोप लगाए और आर.आर. नगर सीट पर चुनाव रद्द कराने की मांग की।

EC seizes 9746 fake voter ID cards

प्रकाश जावड़ेकर के प्रेस कॉन्फ्रेंस के ठीक बाद दिल्ली में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरी घटना के लिए बीजेपी को जिम्मेदार बताया।

सुरजेवाला ने कहा, ‘बीजेपी चुनाव हार रही है और इसलिए यह मिडनाइट ड्रामा कर रही है। हम बीजेपी से पूछना चाहते हैं कि वह बताए कि फ्लैट संख्या 115 की मालकिन कौन है? उस फ्लैट का किराएदार कौन है? मंजुला अंजामरी कौन है?’

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘मंजुला बीजेपी की पूर्व कार्पोरेटर हैं और वह इस फ्लैट की मालकिन हैं। उन्होंने यह फ्लैट अपने गोद लिए बेटे राकेश को दे रखा है जिन्होंने बीजेपी के टिकट से 2015 में निगम पार्षद का चुनाव लड़ा था और कांग्रेस के हाथों हार का मुंह देखना पड़ा था।

हम चुनाव आयोग से मांग करते हैं कि वह बीजेपी नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए और फर्जी दस्तावेजों को लेकर बड़े स्तर पर जांच की जाए।’

सुरजेवाला के आरोप का जवाब देते हुए बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘मंजुला अंजामरी का बीजेपी से कुछ लेना देना नहीं है। वह छह साल पहले ही बीजेपी छोड़ चुकी हैं। मंजुला अब कांग्रेस सदस्य हैं।’ हालांकि मंजुला के बेटे श्रीधर ने भाजपा नेता के दावे को झूठ और अपने परिवार को भाजपाई बताया है।

Source: http://www.boltaup.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here