Chandrashekhar Azad in jail for last 1 year
Chandrashekhar Azad in jail for last 1 year

Chandrashekhar Azad in jail for last 1 year

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने पिछले एक साल से भीम आर्मी के संस्थापक एडवोकेट चंद्रशेखर आज़ाद रावण पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगा कर उन्हें सहारनपुर के जेल में कैद कर रखा है। बता दें कि चंद्रशेखर की गिरफ्तारी मई 2017 में हुई थी।

Download Our Android App Online Hindi News

न्यूज वेबसाइट बोलता यूपी.कॉम की रिपोर्ट के मुताबिक, 2 नवम्बर को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने चंद्रशेखर रावण को जमानत दे दी थी,  लेकिन जेल से रिहा होने से पहले ही योगी सरकार ने रासुका लगा दिया।

एमनेस्टी इंटरनेशनल इण्डिया की कार्यक्रम निदेशक अस्मिता बासु और भीम आर्मी के राष्ट्रीय संयोजक विनय रतन सिंह ने आज संयुक्त रूप से प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चंद्रशेखर के रिहाई की मांग की है। अस्मिता बासु लंबे समय से चंद्रशेखर की रिहाई के लिए संघर्ष कर रही हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, अस्मिता बासु ने एमनेस्टी इंटरनेशनल इण्डिया के तहत अप्रैल में एक मिस्ड कॉल अभियान भी चलाया था। अस्मिता का दावा है कि अभियान का देश भर में एक लाख 40 हजार से ज्यादा लोगों ने समर्थन किया है। ये अभियान अब भी जारी है।

अस्मिता बासु ने आज के अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि आजाद के खिलाफ चल रहे मामले में जल्द से जल्द सुनवाई करके उन्हें न्याय दिलाया जाए।

Chandrashekhar Azad in jail for last 1 year

तमाम पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता, वकिल, प्रोफेसर..आदि चंद्रशेखर की रिहाई के लिए आवाज उठा रहे हैं लेकिन योगी सरकार मौन है।

आज भी सोशल मीडिया पर चंद्रशेखर के समर्थन में लिखा जा रहा है। वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने लिखा है ”भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर आज़ाद रावण को जेल गए एक साल हो चुके हैं।

चंद्रशेकर पर कोई चार्ज है उन्हें एनएसए के तरह कैदी बनाकर रखा गया है क्योंकि वह राजनीतिक रूप से शक्तिशाली है! और इसलिए सरकार या विपक्ष में कोई भी इसपर बात नहीं करेगा। चंद्रशेखर अपनी आज़ादी के हकदार हैं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here