मध्य प्रदेश: विधानसभा चुनाव से पहले BJP और CM शिवराज के लिए बुरी खबर, स्थानीय चुनावों में कांग्रेस की बड़ी जीत

मध्य प्रदेश में इसी साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सत्ताधारी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के लिए बुरी खबर है। विधानसभा चुनाव से ठीक पहले नगरपालिका और नगर पंचायत के उपचुनाव चुनावों में सत्ताधारी पार्टी की हार हुई है, जबकि विपक्षी पार्टी कांग्रेस का जलवा देखने को मिला है। मध्यप्रदेश के 14 नगरीय निकायों में एक-एक वार्ड में पार्षद पद के लिए उपचुनाव में तीन जुलाई को हुए मतदान के परिणाम मंगलवार (7 अगस्त) को घोषित कर दिए गए।

इनमें 9 स्थानों पर कांग्रेस तथा चार स्थानों पर बीजेपी तथा एक स्थान पर निर्दलीय उम्मीदवार को जीत मिली है। मालूम हो कि इस साल ही अंत में प्रदेश में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं। आधिकारिक तौर पर बताया गया कि प्रदेश में 14 नगरीय निकायों में उपचुनाव के तहत एक-एक वार्ड के पार्षद पद के लिए तीन जुलाई को हुए मतदान के परिणाम मंगलवार को घोषित किए गए।

मीडिया रिपोर्ट्स में आंकड़ों का हवाला देते हुए कहा गया कि राज्य में 14 नगरपालिकाओं में पार्षद पद के लिए हुए उपचुनाव में बीजेपी की करारी हार हुई है। जबकि कांग्रेस के सबसे ज्यादा उम्मीदवारों ने जीत दर्ज की है। राज्य के 14 स्थानों पर हुए पार्षदों के उपचुनाव में कुल 14 सीटों में से 9 पर कांग्रेस, 4 पर बीजेपी और 1 पर निर्दलीय ने चुनाव जीते हैं।

समाचार एजेंसी IANS की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य निर्वाचन आयोग के कार्यालय से दी गई जानकारी के अनुसार, मंगलवार को हुई मतगणना में बुरहानपुर के नेपानगर, नीमच के सरवानिया महाराज, छिंदवाड़ा के न्यूटन खिलची, ग्वालियर के डबरा, छिंदवाड़ा के जुन्नारदेव, सिंगरौली के सिंगरौली, सतना के सतना, गुना के राघौगढ़ की नगरीय निकाय के एक-एक वार्ड में कांग्रेस के उम्मीदवार विजयी रहे।

वहीं, दमोह नगर पालिका के एक वार्ड, मंदसौर के शामगढ़ के एक वार्ड, दतिया के एक वार्ड और अनूपपुर के बिजुरी के एक वार्ड से भाजपा उम्मीदवार जीते। इसके अलावा भिंड के गोरमी से निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत दर्ज की। मतदान तीन अगस्त को हुआ था।

इसके साथ ही दो नगरीय निकायों में अध्यक्ष को पद से वापस बुलाने के लिए हुए निर्वाचन में खरगौन जिले के नगर परिषद करही पांडल्याखुर्द में बीजेपी की आशा प्रेमचंद्र बासुरे विजयी रहीं। बालाघाट जिले की नगर परिषद लांजी में बहुजन समाज पार्टी की मीरा नानाजी समरीते विजयी रहीं। पहले भी यही अध्यक्ष थीं।

पंचायत निर्वाचन में एक जिला पंचायत सदस्य, 12 जनपद पंचायत सदस्य, 98 सरपंच पद के लिए भी मतगणना हुई। 12 जनपद पंचायत सदस्य में से आठ निर्विरोध और संरपच के लिए 21 प्रत्याशी निर्विरोध विजयी घोषित किए गए। विधानसभा चुनाव से पहले सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और मुख्यमंत्री शिवराज के लिए इसे करारा झटका माना जा रहा है।

गौरतलब है कि इस साल के आखिरी में देश के तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। जिसमें मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ शामिल हैं। खास बात यह है कि इन तीनों राज्यों में बीजेपी की ही सरकार है। मध्य प्रदेश में अक्टूबर से दिसंबर के बीच में विधानसभा चुनाव होने की उम्मीद है, जिससे पहले नगर पालिका और नगर पंचायत के उप चुनावों की जीत किसी खुशखबरी से कम नहीं है।

 

Source: jantakareporter.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *