BJP के आने वाले समय पर अखिलेश का वार, मोदी सरकार पर लगाये ये आरोप

Akhilesh Yadav Samajwadi party president told bjp as a breaking party

यूपी में महागठबंधन का पेच फंसता नजर आ रहा है। सीटों के बंटवारे को लेकर मायावती के बयान के बाद समाजवादी पार्टी और कांग्रेस बैकफुट पर नजर आ रही हैं। हालांकि, समाजवादी पार्टी (एसपी) गठबंधन के लिए दो कदम पीछे जाने को भी तैयार है। एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव का कहना है कि बीजेपी को हराने के लिए उनकी पार्टी गठबंधन करेगी, चाहे इसके लिए दो कदम पीछे हटना पड़े।

Akhilesh Yadav Samajwadi party president told bjp as a breaking party
Akhilesh Yadav Samajwadi party president told bjp as a breaking party

अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘बीजेपी को हराने के लिए एसपी गठबंधन करेगी, भले ही इसके लिए दो कदम पीछे हटना पड़े। हमारा अजेंडा देश को बचाना है। उसके लिए सभी को आगे आना चाहिए। सिर्फ राजनैतिक दल ही नहीं, बल्कि देश की जनता भी बीजेपी को हटाना चाहती है।’ अखिलेश ने आगे कहा, ‘मैं समझता हूं कि आने वाले समय में आप देखेंगे कि एक बहुत अच्छा गठबंधन तैयार होगा।’

वहीं पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी अखिलेश ने कहा, ‘भारत कई मोर्चों पर पिछड़ रहा है। महंगाई और पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। हम चाहते हैं कि बीजेपी वाले ऐसा चमत्कार करें, उनकी आर्थिक नीतियों में ऐसा चमत्कार हो कि जितना आज डॉलर में रुपया आ रहा है, एक दिन ऐसा आए कि रुपये में उतना डॉलर हो।’

Akhilesh Yadav Samajwadi party president told bjp as a breaking party
Akhilesh Yadav Samajwadi party president told bjp as a breaking party

दरअसल, मायावती ने विपक्षी दलों को यह कहकर एक बार फिर से सोचने के लिए मजबूर कर दिया है कि वह किसी भी गठबंधन में तभी जाएंगी, जब उन्हें सम्मानजनक सीटें मिलें। बीएसपी चीफ मायावती की ओर से सम्मानजनक सीटों की बात करना और कांग्रेस को भी महंगे ईंधन के लिए जिम्मेदार ठहराने के बयान को सीटों की सौदेबाजी के लिए दबाव के तौर पर देखा जा रहा है। यही नहीं बीएसपी चुपचाप अपने उन इलाकों में पैठ मजबूत करने में जुटी है, जिन्हें उसके मजबूत गढ़ों के तौर पर देखा जाता रहा है।

दूसरी तरफ एसपी चीफ अखिलेश यादव भी छोटी पार्टियों के संपर्क में बताए जा रहे हैं। वह निषाद पार्टी और पीस पार्टी को विपक्षी कैंप में लाने की कोशिश में हैं। हालांकि कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल सीटों के समझौते के मामले में अपनी जगह तलाशने की कोशिश में हैं। वहीं कहा जा रहा है कि कांग्रेस यूपी में 10 सीटों से कम पर तैयार नहीं है।

Akhilesh Yadav Samajwadi party president told bjp as a breaking party
Akhilesh Yadav Samajwadi party president told bjp as a breaking party

उधर, पूर्व केंद्रीय मंत्री अजीत सिंह की आरएलडी को सीटें आवंटन करने में काफी सतर्कता बरती जा रही है। माना जा रहा है कि कांग्रेस और आरएलडी के 2014 के लोकसभा चुनाव और 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में प्रदर्शन को देखते हुए उनकी ज्यादा सीटों की मांग पर भी पेच फंस सकता है।

यदि बीएसपी को महागठबंधन में सबसे ज्यादा सीटें मिलती हैं तो फिर समाजवादी पार्टी उससे 5 सीट से ज्यादा कम पर समझौता नहीं करेगी। कांग्रेस को सीट-शेयरिंग के फॉर्म्युले में कम से कम 10 सीटें हाथ लगने की उम्मीद है। इसके अलावा, अजित सिंह का पार्टी आरएलडी को साधना भी चुनौतीपूर्ण होगा। कांग्रेस और आरएलडी के लिए मुश्किल यह है कि 2014 के आम चुनाव और 2017 के विधानसभा चुनाव के परफॉर्मेंस के आधार पर उनका दावा कमजोर है।

अखिलेश का बड़ा बयान, कहा: ‘… तो 2019 में ख़त्म हो जायेगा लोकतंत्र’

2019 ko lekar akhilesh ne kaha khatm ho jayega loktantra

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि अगर 2019 में फिर से बीजेपी जीत गई तो देश में लोकतंत्र खत्म हो जाएगा। शुक्रवार (14 सितंबर) को इटावा में एक रैली को संबोधित करते हुए अखिलेश ने कहा कि अगर बीजेपी 2019 में जीत जाती है और केंद्र की सत्ता में वापसी करती है तो इस बात की प्रबल संभावना है कि उसके बाद देश में कोई चुनाव नहीं होगा।

2019 ko lekar akhilesh ne kaha khatm ho jayega loktantra
2019 ko lekar akhilesh ne kaha khatm ho jayega loktantra

उन्होंने पार्टी समर्थकों से कहा कि साल 2019 में लोकतंत्र को बचाने का आखिरी मौका है। पूर्व सीएम ने आरोप लगाया कि केंद्र की सत्ताधारी बीजेपी सरकार देश को जातिवाद और संप्रदायवाद की आग में झोक रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार दलितों के हित के खिलाफ काम कर रही है।

इससे पहले अखिलेश ने बीजेपी सरकार को तेल की बढ़ती कीमतों, रुपये के गिरते भाव, बढ़ती महंगाई, एलपीजी सिलेंडर के बढ़ते दाम पर घेरा और लोगों से 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को सबक सिखाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि केंद्र की बीजेपी सरकार सभी मोर्चों पर फेल हो चुकी है।

2019 ko lekar akhilesh ne kaha khatm ho jayega loktantra
2019 ko lekar akhilesh ne kaha khatm ho jayega loktantra

2014 के चुनावों में जितने वादे किए थे उनमें कुछ बी पूरा नहीं किया। अखिलेश ने नोटबंदी और जीएसटी का जिक्र करते हुए कहा कि जिन लोगों ने नोटबंदी और जीएसटी लागू किया उनलोगों ने देश की आर्थिक प्रगति रोक दी है। सपा अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी ने अपना कालाधन सफेद करने के लिए नोटबंदी लागू किया लेकिन अब लोकसभा चुनाव आ गया है, जनता बीजेपी को करारा जवाब देगी।

2019 ko lekar akhilesh ne kaha khatm ho jayega loktantra
2019 ko lekar akhilesh ne kaha khatm ho jayega loktantra

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बयान पर अखिलेश ने चुटकी ली और कहा कि वो कहते हैं हम पचास साल तक सत्ता से दूर नहीं जाएंगे। लगता है कि उन लोगों को उप चुनाव के नतीजे याद नहीं हैं। तीन सीटों पर उप चुनाव हुए सभी पर बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा। अखिलेश ने सीएम योगी आदित्यनाथ पर भी निशाना साधा और कहा कि उनकी उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। महंत से सीएम बने योगी 2019 के बाद सीएम नहीं रहेंगे।

अमित शाह को अखिलेश का जवाब, ‘जनता अगले 50 हफ़्तों से पहले ही इनको जवाब दे देगी’

Akhilesh Yadav angry on BJP president

नई दिल्ली – भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने हाल ही में कहा था कि भाजपा पचास साल तक सत्ता में रहेगी। अब उनके इस बयान की आलोचना होनी शुरु हो गई है। सपा सुप्रिमो और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भाजपा अध्यक्ष के इस बयान को लेकर उन पर निशाना साधा है। अखिलेश ने कहा है कि जनता अगले 50 हफ़्तों से पहले ही इनको जवाब दे देगी।

सपा सुप्रिमो ने कहा कि अहंकारी कह रहे हैं कि अगले 50 साल तक भाजपा सरकार ही रहेगी. मीडिया, सांविधानिक संस्थानों व लोगों की भीड़तंत्रीय हत्याओं के बाद अब क्या ये जनता के सरकार चुनने के अधिकार की भी हत्या करेंगे, जो ऐसे तानाशाही बयान दे रहे हैं. देखियेगा जनता अगले 50 हफ़्तों से पहले ही इनको जवाब दे देगी.

अखिलेश यादव ने कहा कि नोटबंदी, जीएसटी, दलित, किसान, नारी व युवा उत्पीड़न, महँगाई, बेरोज़गारी, पेट्रोल-डीज़ल के रोज़ बढ़ते दाम, अमीरों से मुनाफ़ाख़ोरी के सौदे भाजपा के जन विरोधी कारनामे रहे हैं. अब तो जनता को ऐसा लगने लगा है कि भाजपा जनता को दुख देने और परेशान करने की एक प्रयोगशाला खोल के बैठी है.

अखिलेश उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पर भी निशाना साधा है, उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के लिए हर पिता ‘पितातुल्य’ होना चाहिए, उन्नाव की बलात्कार-पीड़िता का वो बेबस पिता भी जिसको उनकी पुलिस ने मार-मार कर मार डाला. इसी प्रकार हर पुत्री ‘पुत्रीतुल्य’ होनी चाहिए, वो पुत्री भी जिसे काला झंडा दिखाने पर जेल की काल कोठरी में डाला गया. यही सच्चा राजधर्म है.

यूपी में गठबंधन का खाका लगभग तैयार, 14 मुस्लिम उम्मीदवारों को मिल सकता है टिकट!

Alliances draft almost ready 14 muslim candidates can get tickets

दिल्ली की गद्दी का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर गुजरता है, लिहाजा हर दल की नजर सूबे की 80 लोकसभा सीटों पर टिकीं हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए यूपी में महागठबंधन की बिसात सज चुकी है. सपा और बसपा के बीच होने वाले गठबंधन में अब कांग्रेस और रालोद के भी शामिल होने की राह तैयार है.

प्लान के मुताबिक बीजेपी को रोकने के लिए सभी 80 सीटों पर महागठबंधन संयुक्त प्रत्याशी उतारेगा.हालांकि, जो पेंच फंसा है वह सीट बंटवारे को लेकर है. सीट बंटवारे की रूपरेखा भी तैयार है. बस देरी तीन राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव में बसपा और कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार गठबंधन 14 मुस्लिम उम्मीदवारों को दे सकती है टिकट.

सीट बंटवारे की बात करें तो बसपा 40 सीट पर चुनाव लड़ना चाहती है. जिसके बाद बची 40 सीटों में से अगर समाजवादी पार्टी 30 सीटों पर लड़ती है तो रालोद व कांग्रेस के बीच बची 10 सीटों पर बंटवारा होगा. सूत्रों के मुताबिक रालोद कैराना, बागपत और मथुरा से चुनाव लड़ना चाहती है. हालांकि, राष्ट्रीय पार्टी होने के नाते, कांग्रेस 10 से 12 सीटें चाहती है. लिहाजा 7 सीटों पर कांग्रेस को राजी करना मुश्किल है.

गठबंधन की ताकत को देखते हुए बसपा दो-चार सीटें छोड़ सकती है. वहीं, पूर्वांचल में सपा अपने कोटे से दो सीट निषाद पार्टी के लिए छोड़ सकती है.हालांकि, महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर समाजवादी पार्टी के एमएलसी आनंद भदौरिया का कहना है कि कौन कितने सीटों पर लड़ेगा इसका निर्णय सभी दलों का राष्ट्रीय नेतृत्व करेगा. अभी यह तय नहीं हुई है.

लेकिन यह स्थिति तभी पैदा होगी जब आगामी तीन राज्यों-मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और बसपा के बीच गठबंधन हो जाए. पिछले दिनों मायावती यह साफ कर चुकी हैं कि सम्मानजनक सीटों के बंटवारे पर ही गठबंधन होगा.

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव भी गठबंधन को लेकर अपना नर्म रूख दिखा चुके हैं. उनका साफ कहना है कि ऐसा कोई भी अडंगा न खड़ा हो जिसकी वजह से गठबंधन न हो और बीजेपी को इसका फायदा मिल जाए.चारों दलों के साथ आने से मुस्लिम, दलित व पिछड़ा वोट होगा एकजुटदरअसल, चारों दलों के साथ आकर चुनाव लड़ने से बीजेपी के लिए चुनौती खड़ी होगी.

मुस्लिम वोटों का बंटवारा नहीं हो सकेगा. पिछले दिनों हुए उपचुनाव में मायावती यह दिखा चुकी हैं कि वे अपने दलित वोट का ट्रांसफर बखूबी करा सकती हैं. हालांकि, सपा का पिछड़ा और अति पिछड़ा वोट कितना बसपा के खाते में जाता है यह अभी साबित होना है.

 

Source: hindi.siasat.com

पूर्व मुख्यमंत्री का दावा, 2019 तक के मेहमान हैं योगी, छिनेगा CM पद का ताज, ये होंगे अगले मुख्यमंत्री

CM Yogi will be resign from CM post

लखनऊ – अगले साल यूपी में भाजपा का नया मुख्यमंत्री होगा। योगी आदित्यनाथ की विदाई तय है। ऐसा दावा किया है सपा के सुल्तान अखिलेश यादव ने। मौका था समाजवादी पार्टी के कार्यालय में पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ सम्मेलन। सम्मेलन में उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के हालात बेहद खराब हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 2019 में अपना पद गंवा देंगे। संकेत के रूप में भाजपा में मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में लड़ाई तेज दिखने लगी है।

केशव प्रसाद मौर्य को बताया अगला मुख्यमंत्री

समाजवादी पार्टी कार्यालय में सपा पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ का सम्मेलन में मुख्य अतिथि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा में 2019 में मुख्यमंत्री बदलने की आहट है। संभावित सीएम और मौजूदा डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य जाति सम्मेलन कराने में काफी सक्रिय हैं। अखिलेश यादव ने भाजपा के जातीय सम्मेलनों पर निशाना साधा। साथ ही केशव प्रसाद मौर्य का नाम लिए बिना कहा, सरकार में उप मुख्यमंत्री का अपमान हुआ। अब उन्हें 2019 में मुख्यमंत्री बनाने की बात चल रही है। इसी कारण वह पिछड़ी जातियों के सम्मेलन करा रहे हैं।

भाजपा के ऊपर टीपू सुल्तान ने चलाए शब्दबाण

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा का सिर्फ एक ही काम है, लोगों को जाति के नाम पर, धर्म के नाम पर तथा ऊंच-नीच के नाम पर लड़ाना। भाजपा की इस चाल को अब लोग समझ गए हैं। उन्होंने कहा कि इस पार्टी के नेताओं ने अभी तक लोगों को हर तरह से परेशान करने के साथ ही आपस में लड़ाने का काम किया है। उन्होंने भाजपा पर शिक्षकों, किसानों, नौजवानों के अपमान का आरोप लगाया।

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार में महंगाई आसमान छू रही है। भारत दुनिया के मुकाबले बहुत पिछड़ गया है। भाजपा राज में लोकतंत्र को खतरा पैदा हो गया है। लोकतांत्रिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है।

पूर्व सैनिकों की यूपी चुनाव में भूमिका को सराहा

अखिलेश ने सत्ता में बदलाव लाने के लिए पूर्व सैनिकों से आह्वान करते हुए कहा कि वर्ष 2019 में उप्र की अहम भूमिका होगी और नया प्रधानमंत्री यहीं से होगा। भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि इस पार्टी के नेताओं ने लोगों को परेशान करने के साथ आपस में लड़ाने का काम किया। नोटबंदी की मार से कोई नहीं बचा। अब आरक्षण के मुद्दे पर जनता को लड़ाया जा रहा है।

भाजपा को यह लगता है कि जब आदमी परेशान होंगे तब उनको वोट ज्यादा मिलेंगे। यादव ने ईवीएम के बजाए बैलेट से ही चुनाव कराने की मांग को दोहराया।

कुंभ में कभी किसी को न्योता नहीं दिया जाता

पूर्व मुख्यमंत्री ने कुंभ का न्योता देने पर तंज कसते हुए कहा कि इतिहास कहता है सबसे पहले कन्नौज के राजा हर्षवर्धन द्वारा कुंभ मेला शुरू कराया गया था। जो मेला कन्नौज वालों ने शुरू किया उसको ही फॉलो किया जा रहा है लेकिन, कुंभ में कभी किसी को न्योता नहीं दिया जाता। इस मेले में सभी अपनी आस्था से आते हैं लेकिन, भाजपा नई परंपरा चालू कर रही है। उन्होंने बताया कि जब सपा शासन में कुंभ कराया था तब हैवेल्स यूनिवर्सिटी ने शोध भी किया कि इतनी बड़ी संख्या में लोग कैसे आते-जाते और रहते हैं।

समाजवादी जागरूकता सप्ताह अब 12 तक

समाजवादी छात्र जागरूकता सप्ताह के तीसरे दिन गुरुवार को छात्र नौजवान सम्मेलन में शिक्षकों का सम्मान किया गया। यह सप्ताह अब 12 सितंबर तक मनाया जाएगा। राष्ट्रीय सचिव व मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य शिक्षकों और छात्रों में आपस में समन्वय कायम करना है। सपा गत कई वर्षों से जागरूकता सप्ताह में शिक्षकों का सम्मान कार्यक्रम करती है। उन्होंने बताया कि समाजवादी जागरूकता सप्ताह की अवधि दो दिन बढ़ा दी है। यह अभियान 10 सितंबर के बजाय 12 सितंबर तक चलाया जाएगा।

इसमें सदस्यता अभियान, साइकिल यात्रा एक महाविद्यालय से दूसरे महाविद्यालय तक चलाई जाएगी और अंतिम दिन कैंपस परिचर्चा होगी, जिसमें लोकतंत्र में मौजूदा हालात और छात्र समस्याओं व छात्र संघ उपयोगिता पर गोष्ठी कराई जाएंगी।

सभार रिपोर्ट लुक

उर्मिलेश का लेखः पहले कारपोरेट ने मुलायम की ‘सियासी हवेली’ गिराने के लिए बुलडोजर लगाया था, अब ‘मनुवादियों’ ने लगा दिया है!

Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh

अपेक्षाकृत कमजोर पहाड़ों में बरसात के दिनों में होने वाले भूस्खलन (लैंडस्लाइड) की तरह यूपी में सैफई परिवार का सियासी आकर्षण छपाक-छपाक गिर रहा है! यूपी के विभिन्न जिलों के दर्जनों सामाजिक कार्यकर्ताओं ने हाल ही में औपचारिक तौर पर कांग्रेस का दामन थाम लिया! इनमें ज्यादातर पिछड़े समुदाय (यादव सहित) और अल्पसंख्यक समाज के बेहद गतिशील और अपेक्षाकृत प्रगतिशील सोच के युवा हैं! कांग्रेस में इन्हें कितनी और कैसी भूमिका मिलेगी, यह तो बात में पता चलेगा, पर इतना साफ है कि पिछड़े-अल्पसंख्यकों में समाजवादी पार्टी का आकर्षण तेजी से घट रहा है!

Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh
Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh

इसका मुख्य कारण है कि यूपी में सामाजिक-न्याय समर्थक शक्तियों, खासकर समझदार युवाओं को लग रहा है कि बीते दो वर्षों से सपा का सैफई परिवार किसी मजबूरी वश अपने तमाम ऊटपटांग फैसलों और अंदरुनी पारिवारिक झगड़ों से भाजपा को मदद पहुंचा रहा है!

Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh
Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh

अखिलेश के पास पार्टी को चलाने और सांगठनिक नेटवर्क तैयार करने का विजन नहीं नजर आता! ऊपर से परिवार के निहित स्वार्थ का बोझ! सुसंगत समाजवादी सोच तो उनमें कत्तई नहीं दिखती! इसका मतलब यह नहीं कि यूपी में सपा का सर्वनाश हो गया या हो जायेगा! पुरानी पार्टी है, जिसके नेता मुलायम सिंह यादव का एक समय सूबे में सियासी जलवा था! पुरानी हवेली को ढहने में भी वक्त लगता है!

Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh
Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh

पहले कारपोरेट ने मुलायम की ‘सियासी हवेली’ को गिराने के लिए बुलडोजर लगाया था, अब ‘मनुवादियों’ ने लगा दिया है! कारपोरेट की संगत में सीखी बुरी आदतें एक बड़े नेता को कैसे लाचार करती हैं, इसका सबूत यूपी में देखा जा सकता है! हां, सुश्री मायावती अपनी जगह बनाये हुए हैं!

Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh
Urmilesh article on Akhilesh Yadav and Mulayam singh

यह भी एक सकारात्मक घटनाक्रम है कि भीम आर्मी वालों ने बसपा का साथ देने का फैसला किया है! अगर सैफई परिवार के अखिलेश गुट(विभाजित सपा) का बसपा के साथ गठबंधन हो गया तो भाजपा के लिए रास्ता आसान नहीं होगा! यूपी की सन् 2019 के चुनाव में कितनी बड़ी भूमिका होगी, यह तो सभी जानते हैं!

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं, ये उनके निजी विचार हैं)

शिवपाल यादव ने बनाई नयी पार्टी, मनाने के लिए अखिलेश ने आज़म खान को भेजा!

Shivpal Yadav found new political party Akhilesh Yadav sent Azam Khan solve

सपा से बागी हुए शिवपाल यादव को मनाने की कोशिशें अभी खत्म नहीं हुई हैं। सपा के दिग्गज और बड़े पदाधिकारी अभी भी कोशिश में लगे हुए हैं। बताया गया है कि इस काम का जिम्मा बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को मिलाने वाले संजय सेठ ने संभाला हुआ है।

लखनऊ के रहने वाले संजय सेठ सपा के कोषाध्यक्ष भी हैं। शिवपाल को राजी करने के लिए संजय सेठ के साथ सपा के दिग्गज नेता आज़म खान भी कोशिश कर रहे हैं। सूत्रों की मानें तो सुबह 11.30 बजे से आज़म खान और संजय सेठ मिलकर कोशिश कर रहे हैं।

दोनों की शिवपाल यादव से एक मुलाकात हो चुकी है। शिवपाल यादव से हुई बातचीत का सारांश अखिलेश यादव तक पहुंचा दिया गया है.सूत्रों की मानें तो अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बीच सुलह कराए जाने की ये कोशिश ‘नेताजी’ यानी मुलायम सिंह यादव की पहल पर हो रही है।

नेताजी नहीं चाहते कि शिवपाल सपा छोड़कर कहीं और जाएं। कहा जाता है कि शिवपाल यादव आज़म खान के खासे नजदीक माने जाते हैं। दोनों एक-दूसरे का बहुत आदर करते हैं।

वहीं इस बारे में जब सपा प्रवक्ता घनश्याम तिवारी से बात की गई तो उनका कहना था कि इस बारे में मैं कुछ नहीं कहना चाहता। इस एपीसोड के बारे में जो बोलना था वो राष्ट्रीय अध्यक्ष बोल चुके हैं और आगे वहीं वही कुछ कहेंगे। मालूम हो कि शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे की घोषणा कर दी है।

 

Source: hindi.siasat.com

शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा बनाया, आज छोड़ सकते हैं समाजवादी पार्टी

Looking for Exit Route from SP Shivpal Yadav to Float Samajwadi Secular Morcha

समाजवादी पार्टी के बड़े नेता शिवपाल सिंह यादव बुधवार को पार्टी छोड़ सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक, शिवपाल पार्टी से काफी नाखुश हैं. ऐसे में वो इस्तीफा दे सकते हैं. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल यादव के बीच लाख कोशिशों के बाद भी कोई बात नहीं बन पा रही है.

वहीं अब सपा के खिलाफ शिवपाल ने समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा बनाया है. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी में मेरी उपेक्षा हो रही है. हम पार्टी से उपेक्षित लोगों को मोर्चे से जोड़ेंगे. साथ ही अन्य छोटी पार्टियों को भी अपने साथ लाएंगे. अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए शिवपाल ने कहा कि मुझे सपा की किसी भी बैठक में नहीं बुलाया जाता है.

इसके पहले भी शिवपाल ने अपना दर्द जाहिर करते हुए कहा था कि हम चाहते हैं कि आगामी लोकसभा चुनाव में साथ मिलकर चुनाव लड़े, डेढ़ साल से सड़क पर हूं लेकिन पार्टी ने कोई ज़िम्मेदारी नहीं दी है. इटावा मे रविवार को फ्रेंड्स कॉलोनी मे शिवपाल ने अपनी बहन से राखी बंधवाने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए ये बात कही थी.

 

Source: hindi.firstpost.com

युवा पीढ़ी का भविष्य बर्बाद कर रही है भाजपा : अखिलेश

BJP is ruining the future of the younger generation Akhilesh

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा युवा पीढ़ी का भविष्य बर्बाद करने में लगी है। वह युवा पीढ़ी को अंधविश्वास और रूढ़िवादिता के अंधेरे में फंसाए रखना चाहती है। उसे नौजवानों के भविष्य निर्माण की कतई चिंता नहीं है।

श्री अखिलेश यादव ने सोमवार को पार्टी मुख्यालय में हुई समाजवादी युवजन सभा की बैठक में यें बात कहीं। उन्होंने कहा कि भाजपा समाजवादी विचाराधारा को बदनाम करने की रणनीति पर काम कर रही है। वह भ्रम, अफवाह और गुमराह करने की साजिश करती है। लोकतांत्रिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है। नौजवानों को झूठे मुकदमों में फंसाया जा रहा है। विश्वविद्यालयों में छात्रों को दाखिला देने में बंदिशें लगाई जा रही हैं।

भाजपा बेरोजगारी के मुद्दे पर मौन हैं। सत्ताधारियों के कारण बहन-बेटियों का मान सम्मान खतरे में है। अपराध नियंत्रण के लिए यूपी डायल – 100 व्यवस्था को बर्बाद कर दिया गया है। अखिलेश ने इस बात पर जोर दिया कि जनगणना के आधार पर अवसर और हक-सम्मान की व्यवस्था होनी चाहिए। सामाजिक न्याय के लिए समाजवादी पार्टी ही संघर्ष करती आई है। बिना गैर बराबरी को मिटाए सामाजिक सद्भाव नहीं हो सकता है।

अखिलेश को तमिलनाडु आने का न्यौता
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष से तमिलनाडु से आए डी. शशिकुमार धर्मलिंगम ने अपने 80 साथियों के साथ मुलाकात की और समाजवादी पार्टी की ताकत के विस्तार के बारे में चर्चा की। सपा प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा कि 2019 में लोकसभा चुनाव की तैयारी तमिलनाडु में समाजवादी पार्टी कर रही है। इसके लिए ही धर्मलिंगम ने अखिलेश यादव को चेन्नई आने का निमंत्रण दिया।

 

Source: hindi.siasat.com

अमर सिंह ने आज़म खान को बताया था राक्षस, अब आज़म के बेटे अब्दुल्ला आज़म ने दिया करारा जवाब

Abdullah Azam Khan react on Amar Singh statement

नई दिल्ली – समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने सपा सुप्रिमो अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आज़म खान पर हमला बोला है। उन्होंने सपा सुप्रिमो अखिलेश यादव को नमाज़वादी और आज़म खान को राक्षस बताया है। उनके इस विवादित बयान के बाद सपा नेता आज़म खान के पुत्र अब्दुल्ला आज़म ने मोर्चा संभाल लिया है। उन्होंने अमर सिंह पर पलटवार किया है।

रामपुर की स्वार विधानसभा सीट से विधायक अब्दुल्ला आज़म ने कहा कि “तुझको मालूम है दुनिया तुझे क्या कहती है, हाथ रख लेती है कानों पे तेरे नाम के साथ” सब जानते हैं के आप जैसे चरित्रहीन लोग अपनी राजनैतिक दलाली बचाने के लिए अपनी बेटियों के नाम का सहारा और अपनी महिला मित्र के 2009 मे अश्लील पोस्टर उन्हें चुनाव जितवाने के लिये लगवा सकते है।

Abdullah Azam Khan react on Amar Singh statement
Abdullah Azam Khan react on Amar Singh statement

समाजवादी पार्टी के सबसे कम उम्र के विधायक अब्दुल्ला आज़म ने कहा कि अखिलेश यादव को समाजवादी और नमाज़वादी बताने वाले एहसान फ़रामोश लोग यह भूल गए कि राज्यसभा की सदस्य्ता के वक़्त उसी अखिलेश यादव जी के घर के चक्कर काटे थे और जूतो के तलवे चाटे थे क्यूंकि अपने नाम पर चुनाव लड़ कर देख चुके हैं और अपनी राजनैतिक हैसियत बहुत अच्छे से जानते हैं।

क्या कहा था आज़म खान ने

समाजवादी पार्टी के टिकिट पर राज्यसभा में विराजमान अमर सिंह ने बीते शुक्रवार को फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट किया था। जिसमें उन्होंने अखिलेश पर हमला बोलते हुए कहा था कि, “तुम विष्णु का मंदिर बनाओगे? नमाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश। यह समाजवादी नहीं है। तुम्हारा पाला हुआ, पैदा किया हुआ राक्षस आजम खान हमारी बेटियों से तेजाब से नहलाने की बात करता है, हमें काटने की बात करता है।”

इसी वीडियो में अमर सिंह ने आगे कहा, “मैं उत्तर प्रदेश और हिंदुस्तान के हिंदुओं से कहूंगा, मुझे अगर इसके लिए सांप्रदायिकता का तमगा भी मिलता है, तो बेशक मिले। अगर धर्मनिरपेक्षता का मतलब अपने स्वाभिमान से समझौता करना है, तो ऐसी धर्मनिरपेक्षता से मैं कान पकड़ता हूं। जो हमारे पीएम को आतंकी कहता है और खुले आम भारत मां को डायन कहता है, वह राक्षस है।”

वाजपेयी के निधन पर अखिलेश यादव ने किया ट्वीट- एक प्रेरणा जो सदा जीवित रहेगी

Akhilesh Yadav tweet on the demise of Vajpayee

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी ने गुरुवार शाम 5.05 बजे अंतिम सांस ली. उनके निधन पर सत्ता पक्ष के साथ ही विपक्ष और देश की जनता में शोक की लहर है. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी और शोक प्रकट किया.

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा, ‘एक महान जीवन का अंत. लेकिन एक प्रेरणा जो सदा जीवित रहेगी. अटल जी को हमारी भावपूर्ण श्रद्धांजलि!’ इससे पहले अखिलेश यादव ने उनके जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की थी.

देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार को लंबी बीमारी के बाद 94 साल की उम्र में निधन हो गया. अटल बिहारी वाजपेयी ने एम्‍स दिल्‍ली में आखिरी सांस ली. बीते 11 जून से अटल बिहारी को यूटीआई इंफेक्शन, लोवर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इंफेक्शन और किडनी संबंधी बीमारियों के कारण एम्स दिल्ली में भर्ती कराया गया था. उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी.

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लिखा, ‘मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं, लेकिन भावनाओं का ज्वार उमड़ रहा है. हम सभी के श्रद्धेय अटल जी हमारे बीच नहीं रहे. अपने जीवन का प्रत्येक पल उन्होंने राष्ट्र को समर्पित कर दिया था. उनका जाना, एक युग का अंत है.’

 

Source: hindi.firstpost.com

महिलाओ में फैला आतंक, योगी के एनकाउंटर वाली सरकार पर अखिलेश ने झाड़ा

Akhilesh Yadav speech on encounters in Uttar Pradesh policy by Yogi Adityanath

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अपराध के मुद्दे पर बीजेपी सरकार को घेरा है। योगी सरकार भले ही एनकाउंटर के जरिए यूपी को अपराध मुक्त बनाने के दावे कर रही हो, लेकिन अखिलेश यादव सरकार की मंशा पर सवाल उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अपराधियों की जगह आज नारी आतंकित हो रही है।

Akhilesh Yadav speech on encounters in Uttar Pradesh policy by Yogi Adityanath
Akhilesh Yadav speech on encounters in Uttar Pradesh policy by Yogi Adityanath

ये है अखिलेश का ट्वीट

अखिलेश यादव ने इस संबंध में ट्वीट कर योगी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने अपने ट्वीट में हाल की कुछ आपराधिक घटनाओं का उदाहरण दिया।

उन्होंने लिखा, ‘प्रदेश में कहीं कोचिंग की छात्रा की सरेआम गोली मारकर हत्या हो रही है, तो कहीं भाजपा विधायक पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली महिला सरकार से निराश होकर मुख्यमंत्री आवास पर आत्मदाह कर रही है। क्या यही है ‘एनकाउंटर वाली’ सरकार का खौफ कि अपराधियों की जगह आज नारी आतंकित हो रही है।’

Akhilesh Yadav speech on encounters in Uttar Pradesh policy by Yogi Adityanath
Akhilesh Yadav speech on encounters in Uttar Pradesh policy by Yogi Adityanath

बीजेपी विधायक पर आरोप

रविवार को राजधानी लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास के सामने एक महिला ने आत्मदाह की कोशिश की थी। महिला ने उन्नाव के बांगरमऊ से बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर गैंगरेप का आरोप लगाया है। आरोप है कि विधायक पक्ष की तरफ से पीड़ित महिला के परिवार पर हमला किया गया, जिसमें घायल पीड़िता के पिता अस्पताल में मौत हो गई है।

इसी मुद्दे को आधार बनाते हुए अखिलेश यादव ने यूपी में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं और प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध को लेकर योगी सरकार को घेरा है।

अखिलेश यादव का ऐलान- बंगले में तोड़फोड़ करने वाले का नाम बताओ और 11 लाख पाओ

Akhilesh Yadav announces rs 11 lakh reward on culprits of Damaged Bungalow

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव के सरकारी बंगले में हुई तोड़फोड़ के मामले में हंगामा जारी है. अब अखिलेश यादव ने खुद इस बात का ऐलान किया है कि जो भी तोड़फोड़ के आरोपियों का नाम बता देगा, उन्हें 11 लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा.

बता दें कि लखनऊ के विक्रमादित्य मार्ग पर आबंटित बंगले को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अखिलेश को खाली करना पड़ा था. उनके बंगला खाली करने के बाद उसमें तोड़फोड़ की तस्वीरें सामने आईं थी. इसके अलावा लोक निर्माण विभाग की हालही में पेश की गई रिपोर्ट में बंगले में करीब साढ़े चार करोड़ रुपए के अवैध निर्माण की बात सामने आई थी. हालांकि समाजवादी पार्टी ने इन आरोपों को विरोधियों की साजिश बताया था.

गौरतलब है कि बुधवार को लोक निर्माण विभाग ने सरकारी बंगले की जांच रिपोर्ट राज्य सम्पत्ति विभाग को सौंप दी थी. इस रिपोर्ट में बंगले में तोड़-फोड़ के कारण करीब 10 लाख रुपए के नुकसान का आकलन किया था. इस मामले में सीएम अखिलेश को नोटिस देने की तैयारी की जा रही है.

जनेश्वर मिश्रा कार्यक्रम में अखिलेश ने पीएम मोदी पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा कि पीएम आरक्षण की बात करते हैं, इस बात की उन्हें खुशी है लेकिन वह नफरत भी फैलाते हैं. अखिलेश ने कहा कि निषाद, बाथम और केवट समाज को कुछ भी नहीं दिया गया. उन्होंने मांग करते हुए कहा कि पिछड़ी जातियों को आबादी के हिसाब से अधिकार मिलना चाहिए.

Source: hindi.siasat.com

दुनिया के सबसे बड़े मंच से पीएम मोदी ने झूठ बोला, वो रह जगह यही करते हैं- अखिलेश यादव

Akhilesh Yadav Attacks on PM Modi

सपा अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को लखनऊ में जनेश्‍वर मिश्र की जीवनी पर आधारित किताब का लाेकार्पण किया। इस दौरान उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा।

उन्‍होंने कहा कि ‘प्रधानमंत्री मोदी हर जगह झूठ बोलते हैं. दुनिया के सबसे बड़े प्‍लेटफार्म में उन्‍होंने बोले दिया कि 600 करोड़ लोगों ने हमें वोट दिया है’।

सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने क‍हा कि हमें बीजेपी के खेल में नहीं उलझना है बल्कि गोरखपुर, फूलपुर और कैराना की तरह ही उसे हराना है। हमसे जो घर छीना गया, वो हमारा घर नहीं सरकारी था। उन्‍होंने कहा कि हमने कोई अवैध निर्माण नहीं कराया।

हम सभी ने एनओसी का सुबूत दे दिया। लखनऊ विकास प्राधिकरण से अनापत्ति प्रमाण पत्र लिया था। उन्‍होंने कहा कि हमने जब घर खाली किया तो रात में कुछ लोग हथौड़ा लेकर हमारे घर में गए।

 

Source: hindi.siasat.com

यूपीः राजभवन के सामने दिनदहाड़े लूट के बाद हत्या पर बोले अखिलेश- अब ‘एनकाउंटर वाली योगी सरकार’ क्या सफ़ाई देगी

SP Akhilesh Yadav slams Yogi govt on Lucknow loot

राजधानी लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास एवं राजभवन से चंद कदम की दूरी पर आज बदमाशों ने एक बड़ी वारदात को अंजाम दिया। पॉश और सुरक्षित माने जाने वाले इलाके से बैंक कैश वैन से 20 लाख रुपए लूटकर गार्ड की हत्या कर दी गई।

इस दौरान बदमाशों ने वैन ड्राइवर रामसेवक और कस्टोडियन उमेश को भी गोली मारी। रामसेवक के पेट और कस्टोडियन के पैर में लगी गोली। हैरानी की बात तो यह है कि राजधानी के हाई सिक्योरिटी इलाके में वारदात को अंजाम देकर बदमाश असानी से फरार भी हो गए।

राजधानी में हुई इस वारदात को लेकर सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने राज्य की योगी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने ट्विटर के ज़रिए कहा, “राजभवन व मुख्यमंत्री की नाक के नीचे कैश वैन की करोड़ों की डकैती व गोलीबारी ने राजधानी व पूरे प्रदेश को दहशत में डाल दिया है”।

उन्होंने कहा, “एक दिन पहले जहाँ ‘विशिष्ट’ लोगों के लिए सर्वोच्च स्तर की सुरक्षा थी, वहां आज कुछ भी सुरक्षित नहीं। देखते हैं ‘एनकाउंटर वाली सरकार’ अब क्या सफ़ाई देती है”।

वहीं डीजीपी ओपी सिंह इस संबंध में मीडिया से बात करते हुए कहा कि बदमाशों के बारे में पुलिस के हाथ अहम सुराग लगे हैं। एसटीएफ समेत क्राइम ब्रांच और पुलिस की कई टीमें लगाई गई हैं। बदमाशों को जल्द गिरफ़्तार किया जाएगा।

बता दें कि इस वारदात को उस वक्त अंजाम दिया गया जब राजभवन के सामने महात्मा गांधी मार्ग पर दिन में करीब चार बजे एक्सिस बैंक के सामने कैश वैन खड़ी थी। इसी बीच बाइक सवार बदमाशों ने कैश वैन ड्राइवर धर्मेंद्र और गार्ड को गोली मारकर 20 लाख रुपया लूट लिया।

 

Source: boltaup.com

विकास के नाम पर झूठे आंकड़े पेश करने में पीएम मोदी को महारत हासिल है- अखिलेश यादव

Akhilesh Yadav ne PM modi par Tanj Kasa

पीएम मोदी के लखनऊ दौरे को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उनपर तंज कसा है। अखिलेश ने कहा है कि लखनऊ में बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने जनता को गुमराह करने की अपनी कला का अच्छा प्रदर्शन किया है।

बीजेपी का यही चरित्र और आचरण है कि उसे करना कुछ नहीं है, लेकिन श्रेय जो नहीं किया है उसका भी जरूर लेना है। विकास के नाम पर झूठे आंकड़े पेश करने में उनको महारत है।

अखिलेश ने पीएम मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि ये कैसी विडंबना है कि बिना कुछ किए मुख्यमंत्री द्वारा प्रधानमंत्री की प्रशंसा की जाती है और प्रधानमंत्री द्वारा मुख्यमंत्री को बधाई दी जाती है। जनता हतप्रभ है कि उनके हित में कुछ नहीं किया, तब भी एक दूसरे की तारीफ की जा सकती है।

 

Source: siasat.com