दिल्ली: नहीं बदला जाएगा रामलीला मैदान का नाम, BJP नेता मनोज तिवारी ने वीडियो जारी कर की पुष्टि

BJP Leader Manoj Tiwari says Ramlila maidan name

कई बड़े आंदोलनों का गवाह रहा देश की राजधानी दिल्ली का ऐतिहासिक रामलीला मैदान को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से बदले जाने को लेकर सियासी गलियों में चर्चा तेज हो गई। जहां एक तरफ दिल्‍ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस ख़बर को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा है। वहीं, दूसरी और दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने ऐसी खबरों का खंडन किया।

BJP Leader Manoj Tiwari says Ramlila maidan name
BJP Leader Manoj Tiwari says Ramlila maidan name

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद और दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक वीडियो जारी कर कहा, कुछ लोग जानबूझकर भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम हम सबके आराध्य हैं इसलिये रामलीला मैदान का नाम बदलने का कोई सवाल ही नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ लोग इस पर राजनीति कर रहे हैं।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक नॉर्थ एमसीडी के मेयर आदेश गुप्ता ने कहा कि कई प्रस्ताव आए हैं। नामकरण की एक प्रक्रिया है, सदिन की बैठक में ही निर्णय होता है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर हम किसी तरह का विवाद नहीं चाहते। ऐसी कई जगहें हैं, जहां का नाम अटल जी पर रखा जा सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक मेयर के इस बयान से कहा जा रहा है कि विवाद पैदा होने के कारण नॉर्थ एमसीडी बैकफुट पर आती दिख रही है।

बता दें कि रामलीला मैदान का नाम बदलने की ख़बर पर आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक और दिल्‍ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर बीजेपी पर जोरदार तंज कसा था। उन्होंने कहा था कि ‘रामलीला मैदान इत्यादि के नाम बदलकर अटल जी के नाम पर रखने से वोट नहीं मिलेंगे, बीजेपी को प्रधानमंत्री जी का नाम बदल देना चाहिए।’

सीएम केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए लिखा, “रामलीला मैदान इत्यादि के नाम बदलकर अटल जी के नाम पर रखने से वोट नहीं मिलेंगे। भाजपा को प्रधानमंत्री जी का नाम बदल देना चाहिए। तब शायद कुछ वोट मिल जायें। क्योंकि अब उनके अपने नाम पर तो लोग वोट नहीं दे रहे।”

वहीं, चांदनी चौक से आम आदमी पार्टी(आप) की विधायक अलका लांबा ने ट्वीट करते हुए लिखा, “भक्त समझ नही पा रहे भगवान राम के नाम का विरोध करें या फिर अटल जी के नाम का …#रामलीलमैदान”

बता दें कि दिल्ली का ऐतिहासिक रामलीला मैदान कई आंदोलनों का गवाह रहा है। वर्ष 2013 में जब पहली बार आम आदमी पार्टी (आप) की दिल्ली में सरकार बनी थी तो अरविंद केजरीवाल ने मुख्यमंत्री और उनके कुछ विधायकों ने मंत्री पद की यहीं शपथ ली थी। हालांकि, यह सरकार 49 दिन ही चल सकी थी। वर्ष 2015 में भी केजरीवाल ने फिर से यहीं अपना शपथ ग्रहण समारोह आयोजित किया था।

बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी शुक्रवार (17 अगस्त) पंचतत्व में विलीन हो गए। पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। कृतज्ञ राष्ट्र ने अश्रुपूरित नेत्रों के साथ अपने इस महान नेता एवं पूर्व प्रधानमंत्री को अंतिम विदाई दी। वाजपेयी का अंतिम संस्कार दिल्ली स्थित राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर किया गया। उनकी दत्तक पुत्री नमिता कौल भट्टाचार्या ने उन्हें मुखाग्नि दी।

पूर्व प्रधानमंत्री का गुरुवार (16 अगस्त) शाम निधन हो गया था। भारतीय राजनीति के अजातशत्रु कहे जाने वाले तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में गुरुवार शाम 5.05 बजे अंतिम सांस ली। 93 वर्षीय भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के कद्दावर नेता को गुर्दे में संक्रमण, मूत्र नली में संक्रमण, पेशाब की मात्रा कम होने और सीने में जकड़न की शिकायत के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था।

 

Source: jantakareporter.com

बिहार: BJP-JDU राज में बढ़ा अपराध, बलात्कार की घटनाओं में 23% की हुई बढ़ोतरी, तेजस्वी ने नीतीश पर बोला हमला

Crime increased in bihar

बिहार में आए दिन अपराध और बलात्कार की सनसनीखेज घटनाओं ने ये सवाल खड़ा कर दिया है कि क्या नीतीश-मोदी सरकार बनने के बाद बिहार में फिर से जंगलराज लौट आया है? यह सवाल इसलिए उठ रहा है, क्योंकि राज्य में पिछले साल बीजेपी-नीतीश के दोबारा सरकार बनाने के बाद से राज्य में आपराधिक घटनाओं में 20 पर्सेंट और बलात्कार की घटनाओं में 23 पर्सेंट की बढ़ोतरी हुई है।

इकनॉमिक टाइम्स के हवाले से नवभारत टाइम्स में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिसिया आंकड़ों बताते है कि पिछले साल भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जनता दल (यूनाइटेड) जेडीयू की सरकार बनने के बाद नीतीश नीतीश में राज्य में होने वाली कुल आपराधिक घटनाओं में 20 पर्सेंट और बलात्कार की घटनाओं में 23 पर्सेंट की बढ़ोतरी हुई है। ये आंकड़े इस साल के जून महीने तक के हैं। अगस्त 2017 से जून 2018 तक के 11 महीनों में बिहार पुलिस ने 2.31 लाख आपराधिक घटनाएं दर्ज कीं। इनमें से 1,278 मामले बलात्कार और 2,722 हत्या से जुड़े हैं।

इन आंकड़ों की तुलना जेडीयू-आरजेडी गठबंधन सरकार के आखिरी 11 महीनों के आंकड़ों से करें तो उस दौरान 1.91 लाख आपराधिक घटनाएं दर्ज की गई थीं। अगस्त 2016 से जून 2017 के बीच राज्य में 2,468 हत्या और 1,044 बलात्कार की घटनाएं दर्ज की गई थीं। इस तरह मौजूदा सरकार के कार्यकाल में बलात्कार की घटनाओं में 23 पर्सेंट, हत्या में 11 पर्सेंट और कुल अपराध में 21 पर्सेंट की बढ़ोतरी हुई है।

यह आकड़े सामने आने के बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जोरदार हमला बोला है। तेजस्वी यादव ने कहा कि ‘चाचा, जनता को अब प्रवचन नहीं चाहिए।’

तेजस्वी यादव ने गुरुवार(23 अगस्त) को ट्वीट करते हुए लिखा, ‘बिहार पुलिस के अपने आंकड़े नैतिक बाबू उर्फ़ अंतरात्मा कुमार को कह रहे है कि आपके तथाकथित दु:शासनी ‘जेडीयू-बीजेपी राज में’ कई गुना अपराध बढ़ा है। कुल आपराधिक घटनाओं में 20% और बलात्कार की घटनाओं में 23% बढ़ोतरी हुई है। चाचा, जनता को अब प्रवचन नहीं चाहिए।’

वहीं, तेजस्वी ने शुक्रवार(24 अगस्त) को एक ट्वीट करते हुए लिखा, ‘बिहार में बच्चियों के साथ सामूहिक दुष्कर्म हो रहे हैं, हत्या हो रही है। महिलाओं को निर्वस्त्र करके घुमाया जा रहा है लेकिन नीतीश चाचा की अंतरात्मा को कोई फिक्र नहीं है उन्हें तो कुर्सी की चिंता है। कुर्सी कैसे बचेगी, ज्यादा से ज्यादा चुनाव लड़ने के लिए सीट कैसे मिलेगी?’ बता दें कि अपने इस ट्वीट के साथ तेजस्वी ने कुछ न्यूज़ पेपर के स्क्रीनशॉट भी शेयर किया है, जिसमें क्राइम की ख़बर छपी हुई है।

Source: jantakareporter.com