भाजपा MLA के बिगड़े बोल, युवकों से कहा अपहरण कर पसंद की लड़की से कराउंगा आपकी शादी

BJP MLA promises young men he will kidnap girls they like

मुंबई: महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ भाजपा के विधायक ने युवाओं को स्पष्ट रूप से कहा कि आप जिस लड़की को पसंद करते हैं, अगर वह आपके प्रस्ताव को ठुकराती है तब भी मैं उसका ‘‘अपहरण’’ कर लूंगा. विधायक राम कदम ने सोमवार रात मुंबई में उपनगर घाटकोपर विधानसभा क्षेत्र में एक ‘दही हांडी’ कार्यक्रम के दौरान ये टिप्पणी की. कदम घाटकोपर विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं.

एक वीडियो क्लिप में उन्हें भीड़ को यह कहते हुए सुना गया है, ‘‘आप (युवा) किसी भी काम के लिये मुझसे मिल सकते हैं.’’ कदम आगे कहते हैं कि उन्हें मदद के लिये ऐसे भी कुछ युवाओं के अनुरोध मिले हैं जिनके प्रस्ताव को लड़की ने ठुकरा दिया था.

वीडियो में भीड़ को संबोधित करते हुए वह कहते हैं, ‘‘मैं मदद करूंगा, 100 प्रतिशत. अपने माता-पिता के साथ (मेरे पास) आइये. अगर माता-पिता इस पर रजामंदी देते हैं तो मैं क्या करूंगा? मैं उस लड़की का अपहरण कर लूंगा और उसे (शादी के लिये) आपके हवाले कर दूंगा.’’ वीडियो में कदम भीड़ को अपना मोबाइल नंबर साझा करते हुए भी सुने गये हैं.

इस वीडियो क्लिप के बारे में पूछे जाने पर कदम ने कहा कि उनकी टिप्पणियों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है. हालांकि उनकी टिप्पणियों पर राकांपा की तीखी प्रतिक्रिया सामने आयी है. राकांपा ने कहा कि इस तरह की टिप्पणियां सत्तारूढ़ पार्टी के ‘‘रावण-सरीखे’’ चेहरे को सामने लेकर आयी हैं.

महाराष्ट्र राकांपा के प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि कदम लड़कियों के अपहरण के बारे में बोल रहे थे. मलिक ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘कदम ने जो भी कहा वह भाजपा के रावण-सरीखे चेहरे का खुलासा करती है. कदम ने कहा कि वह किसी लड़के के लिये एक लड़की का अपहरण करेंगे. इसलिए उनको ‘रावण’ कदम कहना चाहिए.’’

 

Source: hindi.siasat.com

भाजपा MLA के बेटे ने कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया को दी धमकी, मचा हड़कंप

Jyotiraditya Scindia death threat BJP MLA Umadevi Khatik Son arrested

मध्य प्रदेश में राजनीतिक दलों और उनके नेताओं में एक-दूसरे से प्रतिस्पर्धा तो रही है, मगर कभी भी समाज में ‘जहर घोलने’ की कोशिश नहीं हुई. यही कारण रहा कि किसी भी नेता ने एक-आध अपवाद को छोड़कर कभी गंभीर आरोप लगाने में रुचि नहीं दिखाई. यह मर्यादा और परंपरा अब मगर टूटने की कगार पर है. आलम तो यह है कि नेता एक-दूसरे पर आरोप लगाने के मामले में किसी भी हद तक चले जाते हैं. इससे जनमानस में जहर घुल रहा है. राज्य में अगले तीन से चार माह के भीतर विधानसभा चुनाव होना तय है. सत्तारूढ़ बीजेपी यहां लगातार चौथी बार जीतने तो कांग्रेस इन्हें पटखनी देने की कोशिश में है.

फेसबुक पर बीजेपी विधायक के बेटे ने दी धमकी
एक तरफ सीएम शिवराज के रथ पर पथराव का मामला तूल पकड़े है तो दूसरी ओर भाजपा की दमोह जिले के हटा से विधायक उमा देवी खटीक के बेटे प्रिंसदीप लालचंद खटीक ने कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को ‘जान से मारने’ की धमकी दे डाली है. खटीक ने फेसबुक पर लिखा है, ‘सुन ज्योतिरादित्य! तेरी रगों में जीवाजी राव का खून है, जिसने बुंदेलखंड की बेटी झांसी की रानी का खून किया था, अगर उपकाशी हटा में प्रवेश कर इस धरती को अपवित्र करने की कोशिश की, तो गोली मार दूंगा. लहारी में ही या तो मेरी मौत होगी या तेरी.’

शिवराज के काफिले पर हड़ताल के बाद तनाव
बता दें कि रविवार रात सीधी जिले के चुरहट विधानसभा क्षेत्र में सीएम शिवराज चौहान के रथ पर पथराव किया गया. राज्य के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने इसे ‘हत्या की साजिश’ बता डाला. रथ पर हमला रात साढ़े नौ बजे होता है और गृहमंत्री लगभग 15 घंटे बाद ऐलान कर देते हैं कि यह हत्या की साजिश थी. गृहमंत्री को इस बात का खुलासा भी करना चाहिए कि उनके पास यह इनपुट किस एजेंसी के जरिए आया. चुरहट के विधायक और विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह का सीधा आरोप है कि यह कांग्रेस नेताओं को फंसाने की बीजेपी द्वारा रची गई साजिश और सहानुभूति बटोरने की चाल है. सिंह ने सवाल किया कि सीएम के रथ पर पथराव गुप्तचर एजेंसी की असफलता है और गृहमंत्री को इस्तीफा देना चाहिए.

समाज में जहर घुला तो मुश्किल होगी
बता दें कि इससे हटकर राज्य के लगभग हर हिस्से में संसद द्वारा एससी-एसटी एक्ट में किए गए संशोधन का चौतरफा विरोध हो रहा है. इससे समाज के सवर्ण व आरक्षित वर्ग में तनाव की स्थितियां बन रही हैं. राजनीतिक विश्लेषक अरविंद मिश्रा कहते हैं, ‘राज्य में सत्ता और विपक्ष में कभी भी इस तरह के हालात नहीं बने. यह सब जान रहे हैं कि चुरहट के पथराव को मुख्यमंत्री की हत्या की साजिश बताने के पीछे की मंशा क्या है. नेताओं का नजरिया टकराव पैदा करने वाला है तो कार्यकर्ता किस हद तक जाएंगे, इसका अंदाजा लगाया जा सकता है. सत्ता आती-जाती रहेगी, मगर समाज में जहर घुल गया तो शांति और भाईचारा लाना आसान नहीं होगा.

Source: hindi.siasat.com

विडियो– देश चलाने की बात करते हैं और अमित शाह का विधायक राष्ट्रगान भी नहीं गा पाया

फर्जी राष्ट्रवादी और देशभक्ति की नाटक रचने वाला राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की पोल दिन प्रतिदिन खुलती जा रही है.

आए दिन जब न्यूज चैनल्स पर भाजपा के मीडिया पैनलिस्टों और नेताओं से राष्ट्रगान सुनाने को कहा जाता है तो उनका चेहरा देखने लायक होता है.

Amit Shah's legislator can't even sing the national anthem
Amit Shah’s legislator can’t even sing the national anthem

भाजपा और आरएसएस के 90 फीसदी नेताओं को राष्ट्रगान या राष्ट्रगीत से कोई लेना देना नहीं है.

1. भारत भी नहीं बोल सकते भाजपा नेता

Amit Shah's legislator can't even sing the national anthem
Amit Shah’s legislator can’t even sing the national anthem

पिछले दिनों भाजपा नेता एवं उत्तरी दिल्ली के मेयर रवींद्र गुप्ता का एक वीडियो काफी तेजी से पॉपुलर हो रहा है जिसमें उनसे लोगों ने राष्ट्रगान गाने की अपील की.

जैसे तैसे मेयर साहेब ने राष्ट्रगान गाना शुरु कर दिया. मेयर साहेब को जितना आ रहा था, उतना गा रहे थें बाकी मुंह में निगलते जा रहे थें.

देखिये वीडियो:

इस शर्मसार करने वाले वीडियो में जैसे तैसे मेयर राष्ट्रगान गा रहे थें. गलत सही, जहां जो समझ आता है, वहां वही शब्द जोड़ देते थें.

कुछ शब्द और वाक्य मुंह के अंदर भी रह जाते थें. कुछ कुछ शब्द आसपास खड़े लोग धीरे धीरे बता रहे हैं. हद तो तब हो गई कि जब संघ के इस दुलरुआ नेता के मुंह से भारत की जगह जारत शब्द निकल रहा है.

2. योगी के मंत्री की खुल गई थी पोल

Amit Shah's legislator can't even sing the national anthem
Amit Shah’s legislator can’t even sing the national anthem

यूपी सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख एक न्यूज शो पर पहुंच कर हर मदरसे में राष्ट्रगान अनिवार्य करने का फरमान सुना रहे थें.

एंकर ने औलख को वंदे मातरम सुनाने को कह दिया. इतने में तो मंत्रीजी का चेहरा देखने लायक था. बार बार वंदे मातरम गाने की बात कहने के बावजूद मंत्री सिर्फ वंदे मातरम हीं कह सके.

देखिये वीडियो:

इस भाजपाई मंत्री की नौटंकी की पोल लाइव शो में खुल चुकी थी. एंकर को भला बुरा बोलते हुए यह मंत्री किसी तरह इस कार्यक्रम से पीछा छुड़वा कर भागा था.

3. कर्नाटक में किया था राष्ट्रगान का अपमान

Amit Shah's legislator can't even sing the national anthem
Amit Shah’s legislator can’t even sing the national anthem

हाल हीं में कर्नाटक विधानसभा चुनाव में बहुमत नहीं मिलने के बावजूद मोदी, शाह और भागवत ने मिलकर गुंडई से भाजपा की फर्जी सरकार बनवा दी थी.

सदन में विश्वासमत प्राप्त करने के पहले भी भाजपा के फर्जी सीएम येदुरप्पा ने इस्तीफा दे दिया था.

हैरान करने वाली बात थी कि कर्नाटक विधानसभा में राष्ट्रगान का सेशन चल रहा था. राष्ट्रगान शुरु हो गया और भाजपा विधायक सम्मान देने की बजाय इधर उधर भागने लगें.

स्पीकर ने इस घटना को देखने के बाद शर्म महसूस किया और दोबारा राष्ट्रगान का कार्यक्रम कराया.

Amit Shah's legislator can't even sing the national anthem
Amit Shah’s legislator can’t even sing the national anthem

हमें भूलना नहीं चाहिए कि भाजपा आईएसआई के एजेंट ध्रुव सक्सेना की पार्टी है. इन्हें देश और देशभक्ति से कोई लेना देना नहीं है.