CM योगी ने गन्ना किसानों पर दिया था ऊंटपटांग बयान, अब आज़म ने किया तंज, ‘यूपी वालों को अपने मुंह पर ज़ोर से…’

Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane

रामपुर – उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गन्ने वाले ब्यान को लेकर सपा नेता आजम खां ने जमकर निशाना साधा है. आजम खां ने तंज कसते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की जनता को आज अपने मुंह पर जोर से दो थप्पड़ मारने चाहिए कि उन्होंने कितने पढ़े लिखे आदमी को मुख्यमंत्री बनाया है. अब जनता के लिए ये प्रकोप है, सजा है.

Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane
Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane

क्या है पूरा मामला

मंगलवार को बागपत में एक जन जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि किसान कम गन्ना उगाए, वैसे भी देश में शुगर के मरीज बढ़ते जा रहे हैं. उनके इस बयान पर पलटवार करते हुए पूर्व मंत्री और सपा के कद्दावर नेता आजम खां ने कहा कि असल में योगी जी ने गलत क्षेत्र में बयान दे दिया.

Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane
Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane

प्रदेश के मुखिया का क्या बयान है, पूरे प्रदेश की जनता को शर्म आनी चाहिए और आज प्रदेश की जनता को अपने मुंह पर दो थप्पड़ मारने चाहिए कि उन्होंने कितने पढ़े लिखे और कितनी महान पार्टी के व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाया है.

Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane
Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane

यह तो जनता के लिए प्रकोप है, सजा है. मैं तो जाहिल गवार हूं. अगर मैं इस बयान पर कोई जवाब दूं तो मुख्यमंत्री को ऐसे बयान पर शर्म आनी चाहिए क्योंकि आप उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हो और पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रदेश के अधिकतर किसान गन्ना की पैदावार करता है.

Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane
Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane

आप उस किसान को प्रोत्साहित ना करके आप उसको यह कह रहे हो कि वह गन्ना की खेती ना करें. इससे यह साबित होता है कि जनता को किस तरह से मूर्ख बनाया गया और जनता बनी भी. इस पर और कुछ कहना तो जाहिल पन ही होगा क्योंकि ऐसे बयान पर बात करना ही सबसे बड़ी शर्मिंदगी की बात होगी और यह मैं नहीं करूंगा.

Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane
Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane

उन्होंने कहा कि जहां किसान गन्ना उगाता है और उससे झूठा वादा किया जाता है कि 14 दिनों के अंदर उसका भुगतान हो जाएगा जबकि 6 महीने बीत जाने के बावजूद भी करोड़ों रुपए बकाया है. उन्होंने कहा कि तुम्हें शर्म आनी चाहिए अगर वह ऐसा बयान देते हैं.

Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane
Azam Khan attack on CM Yogi for Sugarcane

इससे साफ जाहिर हो जाता है कि BJP सरकार किसानों की कितनी बड़ी हितैषी है और किस तरह से वह किसानों के विकास के लिए काम कर रही है. बड़े वादे करने से कुछ नहीं होता जमीनी स्तर पर भी कुछ करना होता है और जब इंसान कुछ नहीं कर पाता है तो ऐसे शर्मिंदगी भरे बयान देता है.

पूर्व मुख्यमंत्री का दावा, 2019 तक के मेहमान हैं योगी, छिनेगा CM पद का ताज, ये होंगे अगले मुख्यमंत्री

CM Yogi will be resign from CM post

लखनऊ – अगले साल यूपी में भाजपा का नया मुख्यमंत्री होगा। योगी आदित्यनाथ की विदाई तय है। ऐसा दावा किया है सपा के सुल्तान अखिलेश यादव ने। मौका था समाजवादी पार्टी के कार्यालय में पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ सम्मेलन। सम्मेलन में उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के हालात बेहद खराब हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 2019 में अपना पद गंवा देंगे। संकेत के रूप में भाजपा में मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में लड़ाई तेज दिखने लगी है।

केशव प्रसाद मौर्य को बताया अगला मुख्यमंत्री

समाजवादी पार्टी कार्यालय में सपा पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ का सम्मेलन में मुख्य अतिथि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा में 2019 में मुख्यमंत्री बदलने की आहट है। संभावित सीएम और मौजूदा डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य जाति सम्मेलन कराने में काफी सक्रिय हैं। अखिलेश यादव ने भाजपा के जातीय सम्मेलनों पर निशाना साधा। साथ ही केशव प्रसाद मौर्य का नाम लिए बिना कहा, सरकार में उप मुख्यमंत्री का अपमान हुआ। अब उन्हें 2019 में मुख्यमंत्री बनाने की बात चल रही है। इसी कारण वह पिछड़ी जातियों के सम्मेलन करा रहे हैं।

भाजपा के ऊपर टीपू सुल्तान ने चलाए शब्दबाण

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा का सिर्फ एक ही काम है, लोगों को जाति के नाम पर, धर्म के नाम पर तथा ऊंच-नीच के नाम पर लड़ाना। भाजपा की इस चाल को अब लोग समझ गए हैं। उन्होंने कहा कि इस पार्टी के नेताओं ने अभी तक लोगों को हर तरह से परेशान करने के साथ ही आपस में लड़ाने का काम किया है। उन्होंने भाजपा पर शिक्षकों, किसानों, नौजवानों के अपमान का आरोप लगाया।

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार में महंगाई आसमान छू रही है। भारत दुनिया के मुकाबले बहुत पिछड़ गया है। भाजपा राज में लोकतंत्र को खतरा पैदा हो गया है। लोकतांत्रिक संस्थाओं को कमजोर किया जा रहा है।

पूर्व सैनिकों की यूपी चुनाव में भूमिका को सराहा

अखिलेश ने सत्ता में बदलाव लाने के लिए पूर्व सैनिकों से आह्वान करते हुए कहा कि वर्ष 2019 में उप्र की अहम भूमिका होगी और नया प्रधानमंत्री यहीं से होगा। भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि इस पार्टी के नेताओं ने लोगों को परेशान करने के साथ आपस में लड़ाने का काम किया। नोटबंदी की मार से कोई नहीं बचा। अब आरक्षण के मुद्दे पर जनता को लड़ाया जा रहा है।

भाजपा को यह लगता है कि जब आदमी परेशान होंगे तब उनको वोट ज्यादा मिलेंगे। यादव ने ईवीएम के बजाए बैलेट से ही चुनाव कराने की मांग को दोहराया।

कुंभ में कभी किसी को न्योता नहीं दिया जाता

पूर्व मुख्यमंत्री ने कुंभ का न्योता देने पर तंज कसते हुए कहा कि इतिहास कहता है सबसे पहले कन्नौज के राजा हर्षवर्धन द्वारा कुंभ मेला शुरू कराया गया था। जो मेला कन्नौज वालों ने शुरू किया उसको ही फॉलो किया जा रहा है लेकिन, कुंभ में कभी किसी को न्योता नहीं दिया जाता। इस मेले में सभी अपनी आस्था से आते हैं लेकिन, भाजपा नई परंपरा चालू कर रही है। उन्होंने बताया कि जब सपा शासन में कुंभ कराया था तब हैवेल्स यूनिवर्सिटी ने शोध भी किया कि इतनी बड़ी संख्या में लोग कैसे आते-जाते और रहते हैं।

समाजवादी जागरूकता सप्ताह अब 12 तक

समाजवादी छात्र जागरूकता सप्ताह के तीसरे दिन गुरुवार को छात्र नौजवान सम्मेलन में शिक्षकों का सम्मान किया गया। यह सप्ताह अब 12 सितंबर तक मनाया जाएगा। राष्ट्रीय सचिव व मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि इस कार्यक्रम का उद्देश्य शिक्षकों और छात्रों में आपस में समन्वय कायम करना है। सपा गत कई वर्षों से जागरूकता सप्ताह में शिक्षकों का सम्मान कार्यक्रम करती है। उन्होंने बताया कि समाजवादी जागरूकता सप्ताह की अवधि दो दिन बढ़ा दी है। यह अभियान 10 सितंबर के बजाय 12 सितंबर तक चलाया जाएगा।

इसमें सदस्यता अभियान, साइकिल यात्रा एक महाविद्यालय से दूसरे महाविद्यालय तक चलाई जाएगी और अंतिम दिन कैंपस परिचर्चा होगी, जिसमें लोकतंत्र में मौजूदा हालात और छात्र समस्याओं व छात्र संघ उपयोगिता पर गोष्ठी कराई जाएंगी।

सभार रिपोर्ट लुक

UP के लाखों युवाओं को योगी ने बताया ना’लायक’ बोले- सरकारी नौकरी बहुत हैं मगर उम्मीदवार ही योग्य नहीं हैं

CM Yogi said we have govt job but people are not eligible in UP

देश की सबसे ज्यादा आबादी वाले प्रदेश में लोग सरकारी नौकरी पाने के योग्य नहीं है। ऐसा कहना है यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का। इनसे रोजगार पर जब सवाल पूछा गया तो उन्होंने यही बात की। बोले- सरकारी नौकरी तो बहुत है मगर कोई उसके योग्य नहीं है।

योगी के इस बयान को बहाना समझा जा सकता है, क्योंकि सच्चाई तो ये है उत्तर प्रदेश में बेरोजगारों की बढ़ती संख्या के आगे योगी सरकार का दावा भी फेल हो गया। जिसमें कहा गया था कि प्रदेश में हर युवा के पास रोजगार होगा।

CM Yogi said we have govt job but people are not eligible in UP
CM Yogi said we have govt job but people are not eligible in UP

दरअसल, सीएम योगी एक न्यूज़ चैनल के कार्यक्रम में पत्रकार के सवालों का जवाब दे रहे थे। जिसमें उनसे रोजगार पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि जब हमने 68 हजार वैकैंसी निकाली तो एक लाख आवेदन भी नहीं मिले। जब टेस्ट हुआ तो केवल 40 हजार ही पास हो पाए।

उन्होंने कहा हमें 37 हज़ार शिक्षक रखने है, मगर नौकरी की उम्मीदवारी के लिए काबिल लोग ही नहीं मिल रहे है। उन्होंने ये भी कहा की ऐसे लोग ही नहीं जो परीक्षा पास कर पाए और नौकरी करें।

वहीँ दूसरी तरफ इंडिया स्पेंड की रिपोर्ट की माने तो पिछले योगी सरकार ने खुद माना था राज्य में कुल 21 लाख 39 हजार 811 पंजीकृत बेरोजगार हैं। ये सवाल सदन में कांग्रेस नेता दीपक सिंह ने श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य से पूछा था।

जिसमें स्वामी ने बताया था की प्रदेश में 30 जून तक पंजीकृत बेरोजगारों की कुल संख्या 21 लाख 38 हजार 811 है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार निजी क्षेत्र में रोजगार के अवसरों की उपलब्धता के मद्देनजर सेवायोजन कार्यालयों द्वारा रोजगार मेलों के माध्यम से बेरोजगारों को रोजगार मुहैया करा रही है।

मंत्री के इस जवाब से कांग्रेस नेता नाराज़ होकर सदन छोड़कर चले गए थे। उनका कहना था की बीजेपी ने घोषणापत्र में 90 दिन के अंदर लाखों लोगों को नौकरी देने का वादा किया था, वह भी पूरा नहीं हुआ, कांग्रेस नेता का कहना था की प्रदेश में करीब 5 करोड़ लोग बेरोजगार हैं।

हालाँकि अगर 5 करोड़ लोग बेरोजगार नहीं है तब भी पंजीकृत बेरोजगारों की संख्या 21 लाख 38 हजार 811 है जो कहीं से भी कम नहीं है।

क्या इस बड़े प्रदेश में सरकारी नौकरी के लिए कोई योग्य नहीं है या फिर सरकार रोजगार न दे पाने पर बहाने बना रही है।

 

Source: boltaup.com

देवरिया मामला: CM योगी ने की CBI जांच की सिफारिश, सरकार ने माना- शेल्टर होम में लड़कियों का हुआ यौन शोषण

Deoria Shelter abuse case

उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में भी शेल्टर होम ((मां विंध्यवासिनी बालिका संरक्षण गृह) में बिहार के मुजफ्फरपुर जैसा मामला सामने आने के बाद सरकार से लेकर प्रशासनिक अमले तक के होश उड़ गए हैं। मामला सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने देवरिया में नारी संरक्षण गृह में चल रहे सेक्स रैकेट मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की सिफारिश की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार (7 अगस्त) को खुद इसकी जानकारी दी।

Deoria Shelter abuse case
Deoria Shelter abuse case

सीएम योगी ने कहा, ‘देवरिया की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। इसकी गंभीरता को देखते हुए दोपहर में बैठक की थी… बालिकाओं के बयान और अन्य स्थितियों को देखते हुए मामले की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए ही इसे सीबीआई को भेजने का निर्णय किया गया है।’ उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने अपने स्तर से एसआईटी क

गठन किया है, जो इस पूरे प्रकरण की जांच करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बाल कल्याण समिति ने अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन नहीं किया, इसलिए उसे निलंबित करने का फैसला किया जा रहा है। बता दें कि देवरिया स्थित मां विंध्यवासिनी महिला एवं बालिका संरक्षण गृह की मान्यता स्थगित होने के बाद भी संरक्षण गृह को हाईकोर्ट से स्थगनादेश लेकर चलाया जा रहा था। रविवार (5 अगस्त) की रात इस संस्था से सेक्स रैकेट संचालित होने का खुलासा हुआ, जिसके बाद शासन गंभीर हो गया।

लड़कियों के साथ हुआ शारीरिक शोषण

इस बीच महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने यह बात स्वीकार की है कि शेल्टर होम में लड़कियों का शारीरिक शोषण होता था। उच्च स्तरीय जांच कमिटी की रिपोर्ट के बाद मंत्री ने मीडिया से बातचीत में यह बात स्वीकार की है कि शेल्टर होम में लड़कियों के साथ शारीरिक शोषण की बात से इनकार नहीं किया जा सकता है।

जोशी ने कहा कि उन्हें ऐसा लगता है कि देवरिया में लड़कियों के साथ यौन शोषण हुआ है। रिपोर्ट आने के बाद इसमें जो भी दोषी पाए जाएंगे उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने भरोसा जताया कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने इस मसले पर विपक्षी दलों खासकर सपा व बसपा पर जमकर हमला बोला। कहा यह सारे कारनामे इन दोनों पार्टियों की सरकारों के समय के हैं।

मामले में एक और गिरफ्तार

नारी संरक्षण गृह की घिनौनी घटना मामले में पुलिस ने संचालिका गिरिजा त्रिपाठी व उसके पति मोहन त्रिपाठी की गिरफ्तारी के बाद मंगलवार (7 अगस्त) को बेटी व नारी संरक्षण गृह की अधीक्षक कंचनलता को भी गिरफ्तार कर लिया है। वहीं इस मामले में तत्कालीन जिला प्रोवेशन अधिकारी प्रभात कुमार की तहरीर पर पुलिस ने अधीक्षक कंचनलता, उसकी मां व संचालिका गिरिजा त्रिपाठी और पिता मोहन त्रिपाठी के खिलाफ मानव तस्करी, देह व्यापार व बालश्रम से जुड़ी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया।

सोमवार को गिरिजा त्रिपाठी व मोहन त्रिपाठी को पुलिस ने जेल भेज दिया, जबकि फरार अधीक्षक कंचनलता की लोकेशन लखनऊ में मिलने पर दो टीमें लखनऊ पहुंचीं और छापेमारी की, लेकिन वह नहीं मिली। मगर मंगलवार सुबह पुलिस ने अधीक्षक कंचनलता को ढूंढ़ निकाला और गिरफ्तार कर लिया। उसे पुलिस लाइन में रखकर पूछताछ की जा रही है।

 

Source: jantakareporter.com