मतदान बैलट पेपर के माध्यम से किया जाना चाहिए: शरद यादव

Elections should be held through ballot paper Sharad Yadav

नई दिल्ली: लोकतंत्रिक जनता दल (एलजेडी) के संरक्षक शरद यादव ने सोमवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) के बारे में संदेह स्पष्ट करने के लिए चुनाव आयोग से आग्रह किया और मांग की कि बैलट पेपर पर चुनाव होना चाहिए।

यादव ने यहां मीडिया को बताया, “लोगों के दिमाग में ईवीएम पर संदेह हैं। और मई 2017 के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद, आयोग ने वीवीपीएटी पर अपना वादा पूरा नहीं किया है।”

उन्होंने कहा कि लोग चुनाव में भाग नहीं ले सकते हैं क्योंकि ईवीएम दोषपूर्ण थे। “जो बहुत खतरनाक है। बैलट पेपर के माध्यम से आयोजित किया जाना चाहिए।”

यादव ने बताया कि कई विकसित देश बैलट पेपर का उपयोग कर रहे हैं।

बेरोजगारी पर मोदी सरकार पर हमला करते हुए यादव ने कहा कि सरकार के दावे वास्तविकता से अलग थे।

“2011-12 में, 2013-14 में देश की विकास दर 4 प्रतिशत और 3.3 प्रतिशत थी। 2015-16 में यह आधे प्रतिशत से भी कम हो गया।”

यादव ने कहा: “हर दिन करीब 550 नौकरियां कट जाती हैं और देश में लगभग 12 करोड़ बेरोजगार युवा हैं।”

 

Source: hindi.siasat.com

बीजेपी को बड़ा झटका, शिरोमणि अकाली दल अकेले चुनाव लड़ने का किया ऐलान!

Shiromani Akali Dal declares to contest elections alone

2019 लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका लगा है। भाजपा को यह झटका किसी और ने नहीं, बल्कि उसकी ही सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) ने दिया है। दरसअल, अकाली दल ने आगामी लोकसभा और विधानसभा के चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान किया है।

अकाली दल के प्रमुख सुखवीर सिंह बादल ने रविवार को घोषणा की है कि उनकी पार्टी अकेले ही चुनावी मैदान में उतरेगी। आपको बता दें कि यह घोषणा सुखबीर सिंह बादल ने रविवार को पिपली नगर स्थित अनाज बाजार में पार्टी की रैली को संबोधित करते हुए कही।

रैली को संबोधित करे हुए बादल ने कहा कि हमने पंजाब की जनता से जो वादा किया और उसे पूरा किया है। उन्होंने कहा कि अब हम हरियाणा के विकास और कल्याण की जिम्मेदारी उठाने को तैयार हैं। बादल ने पंजागी समाज से अपील करते हुए कहा कि वह हरियाणा में विकास की इबारत लिखने में अकाली दल का सहयोग करे।

बादल ने कहा कि अगर बार आप सभी लोग अकाली दल के झंडे तले आ गए तो सत्ता पाने से कोई नहीं रोक सकता। बादल ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो राज्य में कृषि के लिए मुफ्त बिजली दी जाएगी।

इसके साथ ही उन्होंने खेती—बाड़ी के लिए सिंचाई के लिए मुफ्त पानी और दलितों को हर महीने 400 यूनिट मुफ्त बिजली देने का प्रावधान किया जाएगा। इसके साथ ही समाज के सभी वर्गों के लिए विकास की योजनाएं शुरू की जाएंगी।

आपको बता देें कि अकाली दल लंबे समय से भाजपा का सहयोगी दल रहा है। दोनों पार्टियों ने अब तक एक साथ मिलकर चुनाव लड़े हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में दोनों पार्टियां एक साथ मिलकर चुनाव लड़ी थीं, लेकिन असफता हासिल हुई थी।

 

Source: hindi.siasat.com